UP Election 2022: इस्तीफे की अटकलों पर बीजेपी विधायक ममतेश शाक्य का बड़ा बयान, जानें स्वामी प्रसाद मौर्य को क्या सलाह दी

UP Election 2022: इस्तीफे की अटकलों पर बीजेपी विधायक ममतेश शाक्य का बड़ा बयान, जानें स्वामी प्रसाद मौर्य को क्या सलाह दी

बीजेपी विधायक ममतेश शाक्य ने कहा कि वे बीजेपी छोड़कर कहीं नहीं जा रहे और जो भी उनके बारे में अफवाहें फैल रहीं हैं वो सरासर गलत हैं.

UP Assembly Election 2022: उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री और ओबीसी वोट बैंक का एक बड़ा चेहरा स्वामी प्रसाद मौर्य के प्रदेश की बीजेपी सरकार से इस्तीफा देने के बाद चुनाव से पहले राजनीतिक पाला बदल कर समाजवादी पार्टी में शामिल होने की खबर से प्रदेश की राजनीति में खलबली मच गई है.

इसी बीच चर्चाओं का बाजार गर्म हुआ कि स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ बीजेपी के कई मंत्री और विधायक भी बीजेपी से इस्तीफा देकर सामाजवादी पार्टी ज्वाइन कर सकते हैं.

इसी में एक नाम बड़ी ही तेजी से चला और वो नाम है कासगंज जिले के पटियाली विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक ममतेश शाक्य का. जब हमने ममतेश से बात की तो उन्होंने कहा कि वे बीजेपी छोड़कर कहीं नहीं जा रहे और जो भी उनके बारे में अफवाहें फैल रहीं हैं वो सरासर गलत हैं.

मैं बीजेपी में हूं और रहूंगा-ममतेश शाक्य
ममतेश शाक्य ने कहा कि उनकी बीजेपी में पूरी आस्था है और योगी जी फिर से प्रदेश के मुख्यमंत्री बनेंगे. उन्होंने कहा कि वो बीजेपी छोड़कर कहीं नही जा रहे हैं. इस देश के अंदर, इस प्रदेश के अंदर भारतीय जनता पार्टी ने गरीब, दलित, पिछड़ा, तमाम लोगों का जो हित करने का काम किया है मैं जानता हूं कि इससे पहले की तमाम सरकारों ने ये नहीं किया है. उन्होंने कहा कि मौर्या का पार्टी छोड़ने का निर्णय उनका अपना व्यक्तिगत निर्णय है और वो अपना निर्णय लेने में स्वतंत्र हैं लेकिन मैं अपना बता रहा हूं कि मैं भारतीय जनता पार्टी में हूं और रहूंगा.

मौर्य को अपने कदम पर विचार करना चाहिए-शाक्य
ममतेश शाक्य ने कहा कि मेरी समझ से तो स्वामी प्रसाद मौर्य के पार्टी छोड़ने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा. मैं इतना जरूर कहना चाहता हूं कि माननीय मौर्या जी ने बहुत जल्दी में ये कदम उठाया है. एक बार उन्हें फिर से इस कदम पर विचार करना चाहिए और भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से बात करनी चाहिए. ये निर्णय समाज के लिए और प्रदेश और देश की जनता के लिए ठीक नहीं है.

पार्टी नेतृत्व से बात करनी चाहिए-शाक्य
अगर कोई गिले शिकवे हैं, नाराजगी है तो उन्हें अपनी बात पार्टी नेतृत्व के सामने रखनी चाहिए और भारतीय जनता पार्टी में ही रहना चाहिए क्योंकि सामाजवादी पार्टी में तमाम गुंडे, माफिया, भय की परिस्थियां रहती हैं. मैं जानता हूँ कि हमारे लिए, हमारे समाज के लिए किसी भी मायने में सामाजवादी पार्टी अच्छी नहीं रहेगी. भारतीय जनता पार्टी की फिर से प्रदेश में सरकार बन रही है.

Share this story