प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक: 5 सवालों से जानिए क्‍यों कटघरे में है पंजाब पुलिस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक: 5 सवालों से जानिए क्‍यों कटघरे में है पंजाब पुलिस

नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की सुरक्षा में गंभीर चूक मामले में अब पंजाब पुलिस (Punjab Police) और उसके प्रमुख डीजीपी (DGP) सवालों के घेरे में हैं.

ऐसा माना जा रहा है कि केंद्र डीजीपी पर कार्रवाई कर सकता है. राज्‍य सरकार ने जहां जांच कमेटी बनाई है तो वहीं केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तीन सदस्‍यीय जांच समिति बना दी है. बुधवार को पीएम मोदी काफिला हुसैनीवाला स्थित राष्ट्रीय शहीद स्मारक से 30 किमी दूर फ्लायओवर पर फंस गया था. उस दौरान पीएम मोदी का फिरोजपुर कार्यक्रम रद्द किया गया था, जिसके तहत वे 42 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की परियोजनाओं का शिलान्यास करने जा रहे थे. फ्लाईओवर के एक ओर किसान प्रदर्शनकारी रास्ता रोककर खड़े थे. 20 मिनट तक पीएम मोदी फ्लाईओवर पर ही रहे. उसके बाद रैली रद्द कर बठिंडा एयरपोर्ट लौट आए.

यह घटनाक्रम ऐसा था कि देश भर में व्‍यापक प्रतिक्रिया हुई और केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इसे पीएम की सुरक्षा में गंभीर चूक बताया. पंजाब के मुख्‍यमंत्री ने भी प्रतिक्रियाएं आने के बाद जांच समिति बनाई और कहा कि सुरक्षा में चूक जैसा कुछ नहीं था, चूंकि प्रधानमंत्री मोदी पहले हेलिकॉप्टर से आने वाले थे लेकिन ऐन वक्त में सड़क से आए, इसलिए ये घटना हुई. इस मामले में सबसे ज्‍यादा सवाल पंजाब के डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय (DGP Siddhartha Chattopadhyay) पर सवाल उठ रहे हैं.

केंद्र, पंजाब के जिम्‍मेदार अधिकारियों के खिलाफ एसपीजी एक्ट के प्रावधानों के तहत कार्रवाई की तैयारी कर रहा है. सूत्रों के मुताबिक, इसके चलते जिम्मेदार अधिकारियों को दिल्ली तलब भी किया जा सकता है या उनके खिलाफ केंद्रीय स्तर की जांच शुरू हो सकती है. पीएम की गतिविधियों के दौरान एसपीजी को सभी सहायता प्रदान करने के लिए एसपीजी एक्ट की धारा 14 के तहत राज्य सरकार जिम्मेदार है. हालांकि, मामले की जांच के लिए पंजाब सरकार ने उच्च स्तरीय समिति का गठन कर दिया था.

ऐसे हैं पांच सवाल, जिन पर घिर गई है पंजाब पुलिस

Share this story